संता और अकबर

एक बार संता को अकबर के सैनिकों ने पकड़ लिया और दरबार में लेके गये..

अकबर- कौन हो तुम??

संता- महाराज मैं सांता हूँ..

अकबर- इतनी रात को हमारे महल में क्या कर रहे थे??

संता- कुछ..कुछ नहीं महाराज(घबराते हुए)

अकबर- सैनिकों, इसे ले जाओ और बंदी बना दो..

संता- महाराज रहम करो, मुझे बंदी मत बनाओ मुझे बंदा ही रहने दो..

 

अकबर बीरबल के मजेदार किस्से

अकबर – आज हम बहुत खुश हैं, सारे कैदियों को रिहा कर दिया जाये, जेल से एक बूढ़ा भी निकल के आया,

अकबर – तुम तो बहुत बूढ़े हो, कब से यहां बंद हो ?

बूढ़ा कैदी – हुजूर आपके पिताजी के ज़माने से कैद हूँ,

अकबर रोते हुए बोला – इसको फिर से कैद में डाल दो, ये हमारे बापू की आखिरी निशानी है